Latest Updates, Vrat and Tyohaar

सुहागिनों की मनोकामना व अखंड सौभाग्य पूर्ण करेगा शिव योग

Karwachhot Special2020

सुहागन स्त्रियो का ये पर्व ये त्यौहार अबकी बार वर्ष 2020  में कई शुभ संकेतो के साथ हो रहा है।इस करवाचौथ पर बनने वाले सभी विभिन योगो में शिव योग जो बनेगा वो सबसे श्रेष्ठ योग रहेगा जो सुहागन महिलाओ कि सभी प्रकार कि इच्छा व मनोकामना कि पूर्ति एवं अखंड सौभाग्य रखने वाला होगा।
अगर हम बात इस पर्व के वार कि करे तो इस साल ये पर्व बुधवार को आ रहा है चुकी भगवान गणेश जी आराधना इस व्रत के लिए बहुत महत्वपूर्ण है और कुंडली में बुद्घ गृह सौन्दर्य का प्रतीक भी मन जाता है तो बुधवार का दिन भी इस व्रत के लिए अतिउत्तम और महत्वपूर्ण रहेग। इस दिन बुधादित्य योग का निर्माण भी हो रहा है क्युकी व्रत के दिन बुध गृह के साथ साथ सूर्य गृह भी विधमान हो रहे है।

इसके अन्य योग जैसे सर्वार्थसिद्धि, सप्तकीर्ति, महादीर्घायु और सौख्य योग भी इस बार करवाचौथ के दिन बन रहे है।

इस वर्ष करवा चौथ का व्रत 04 नवंबर बुधवार को मनाया जाएगा | चतुर्थी तिथि का प्रारंभ ०३: 24 से 05 नवंबर दिन गुरुवार को प्रात:काल 05 बजकर 14 मिनट तक रहेगी

खानदानी ज्योतिषाचार्य पंडित ऋषि गौतम ने बताया है कि इस दिन ग्रहो कि चाल को अगर देखा जाये तो चन्द्रमा ग्रह भीkARWACHHOT MEDIA वृष राशि से निकलकर मिथुन राशि में गतिमान के साथ संचार करेगा। इस प्रकार के दुर्लभ संयोग काफी सालो बात बन रहे है।
इसलिए सुहागन स्त्रियो के लिए वर्ष 2020 का ये करवाचौथ व्रत और पूजन कई गुना ज्यादा फल देने जैसा रहेगा।
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ये व्रत कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष कि चतुर्थी को मनाया जाता है।
व्रत एवं पूजन कि विधि कि अगर बात करे तो कोई. खास विधि ऐसी नहीं है लेकिन कुछ नियम अवशय ध्यान में होने चाहिए

Read Now:- नवरात्र के दौरान कभी न करें इन चीज़ों का सेवन

जैसे सुहागन महिलाये प्रातःकाल बह्रम मुहूर्त में स्नान कर सरगी का सेवन कर अपने दिन कि सुरुवात करनी चाहिए एवं पुरे दिन निर्जल निराहार में रहकर रात में चन्द्रमा को अ‌र्घ्य देकर अपने व्रत का समापन करना चाहिए ।
अपने मनोवांछित पति कि कामना के लिए कुंवारी कनाये भी इस व्रत को कर सकती है।

 

विशेष: रात को चन्द्रमा को अ‌र्घ्य देकर इस मंत्र का जाप अवशय ही करना चाहिये

“सौम्यरूप महाभाग मंत्रराज द्विजोत्तम, मम पूर्वकृतं पापं औषधीश क्षमस्व मे”

जिसका हिंदी अर्थ है कि इंसान के मन को शीतला रूप देने वाले ,सौम्य स्वभाव वाले ब्राह्मणों मे श्रेष्ठ, सभी औषधियों के राजा व स्वामी चंद्रमा आज इस करवाचौथ व्रत मेरी आपसे विनती है कि मेरी द्वारा जाने अनजाने में पूर्व के जन्मों मे किए गए सम्पूर्ण पापों को क्षमा करें। मेरे घर परिवार कुटुंब मे सुख शांति का वास हो।

Note : अगर किसी महिला के वैवाहिक जीवन में किसी भी प्रकार की समस्या चल रही है तो वो महिला खानदानी ज्योतिषचर्य पंडित ऋषि गौतम से निःशुलक व् घर बैठे ऑनलाइन अपनी जन्मपत्रिका दिखवाकर अपने समस्या के समाधान के लिए फ़ोन पर संपर्क कर सकती है ।

 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *